Monday, October 25, 2021
होम पलवल कोरोना की तीसरी लहर की आशंका से ना घबराएं लोग : डा. ब्रह्मदीप

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका से ना घबराएं लोग : डा. ब्रह्मदीप

citykhabre | 19-09-2021 19:00

पलवल: सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप ने नागरिक अस्पताल पलवल में एक बैठक के दौरान बताया कि कोरोना की दोबारा से आने की आशंका जताई जा रही है और इस परेशानी की घड़ी में लोग घबराएं नहीं, सभी लोग कोविड वैक्सीन लगवाएं। हैंड सैनेटाइजर, फेस मास्क का निरंतर प्रयोग करे और सोशल डिस्टेंस का पालन करें। अधिक जरुरी होने पर ही घरों से बाहर निकलें। उन्होंने कहा की अगर कोई कोरोना पॉजिटिव हो जाता है तो अपने घर पर ही गृह एकांतवास में रहकर अपना अपना ध्यान रखें।

गृह एकांतवास किसके लिए है:
जिन मरीजों के घर विशेषकर उनके लिए अलग कमरा हो तथा परिवार के अन्य सदस्यों के रहने के लिए अलग सुविधा हो। मरीजों की देखभाल करने वाला व अन्य नजदीकी संपर्क में आने वाले व्यक्ति हाइड्रोक्लोरोक्विन दवाई का चिकित्सकीय सलाह से सेवन कर सके। जो मरीज अपने मोबाइल फोन पर आरोग्य-सेतु एप का इस्तमाल कर सके। जो मरीज अंडरटेकिंग देने के लिए तैयार हो कि वह घर पर रहने के दौरान स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन के सभी दिशा-निर्देश का पालन करेंगे।

गृह एकांतवास कब समाप्त करे:
लक्षण शुरू होने से 17 वे दिन के बाद, जबकि पिछले दस दिन में बुखार न हुआ हो और दसवे दिन दी गई आरटी-पीसीआर जांच में कोरोना रहित हो। कब स्वास्थ्यकर्मी से करें संपर्क: जब भी बुखार हो या सांस लेने में कठिनाई, छाती में दर्द या दवाब, मानसिक असमंजस, चेहरे या होठो पर नीलिमा इत्यादि की शिकायत हो।

मरीज के लिए निर्देश:
हमेशा ट्रिपल लेयर मास्क पहने व हर आठ घंटे में इसे बदले। गीला होने पर तुरंत बदले व 1 प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइट घोल में धोकर निस्तारण करें। एकांतवास के अंत तक अपने कमरे में ही रहे। अपना निजी शौचालय ही इस्तेमाल करें। नियमित गर्म पानी, चाय, पौष्टिक व संतुलित भोजन ही खाएं। छींकते या खांसते समय रुमाल व कोहनी का इस्तेमाल करें। अपने हाथ नियमित रूप से साबुन-पानी या अल्कोहल युक्त सैनेटाइजर से साफ करें। रोगी अपने कमरे में ही भोजन करे। अपने बर्तन बिस्तर व तौलिया आदि अलग रखे, मदिरा सेवन व ध्रूमपान से बचें, अपना मोबाइल फोन भी अलग रखे।

स्वयं स्वास्थ्य जांच का तरीका:
हर सुबह और रात या जब कभी भी बुखार महसूस हो तो तुरंत स्वास्थ्य परीक्षण करे और थर्मामीटर से चेक करे। यदि आपके शरीर का तापमान 100 एफ. (37.8 सी.) से अधिक हो या आपकी पल्स दर 100 बीट प्रति मिनट से अधिक है, तो तुरंत स्वास्थ्यकर्मी से संपर्क करें।

देखभाल करने वालों के लिए निर्देश:
बीमार व्यक्ति के पास हो तो ट्रिपल लेयर मास्क पहने। मास्क के सामने वाले हिस्से को न छुएं। यदि स्त्राव के साथ मास्क गीला हो जाता है, तो इसे तुरंत बदले, उपयोग के बाद मास्क को त्यागें और मास्क के निपटान के बाद हाथों को अच्छी तरफ साफ करें। अपना चेहरा, नाक या मुंह छूने से बचना चाहिए। बीमार व्यक्ति या उसके तात्कालिक के संपर्क के बाद कम से कम 40 सैकंड तक हाथ धोने चाहिए, खाना बनाने, खाने व शौचालय जाने से पहले व बाद में हाथ अच्छी तरह से साबुन व पानी से साफ करे। हाथ सुखाने के लिए डिस्पोजेबल पेपर तौलिए का उपयोग करें या साफ तौलिए का प्रयोग करे व गीला होने के बाद तौलिए को बदल दें। रोगी को संभालते समय डिस्पोजेबल दस्ताने का उपयोग करें। दस्ताने हटाने से पहले व बाद में हाथ की सफाई करें। रोगी के बर्तन को दस्ताने पहनकर साबुन और डिटर्जेंट व पानी से साफ करें। देखभाल करने वाला सुनिश्चित करेगा कि रोगी निधारित उपचार का पालन कर रहा है।

कोविड मरीज के पड़ोसियों के लिए निर्देश:
सीढियों और लिफ्ट बटन आदि की हाथ की रेलिंग जैसे अक्सर छुआ जाने वाले स्थानों पर विशेष ध्यान दे, उन्हें सीधे छूने से बचे, जहां तक संभव हो होम आइसोलेशन के मरीज से समय-समय पर फोन पर बात कर उनके मनोबल को बढ़ाए। मरीज से उचित दूरी बनाए रखे और ध्यान दें कि बच्चे, बुजुर्ग और गर्भवती महिलाएं विशेष रूप से, मरीजों से दूरी बनाएं रखें। याद रखें कि लड़ाई बीमारी के खिलाफ है, बीमार से नहीं। रोगी या उनके परिवार के सदस्यों के लिए किसी प्रकार की परेशानी का कारण न बने। मरीज की तब तक मदद करे जब तक कि वह ठीक न हो जाए। यदि उन्हें किसी आवश्यक वस्तु जैसे दवा, राशन, सब्जी आदि की आवश्यकता होती है, तो उनके घर के दरवाजे के बाहर वस्तुओं को छोडक़र उनकी मदद करें।

किसी भी प्रकार की सहायता के लिए पलवल जिले की कोरोना हेल्पलाइन सेवा (1950, 100, 108), 7027840481, 01275240022 पर संपर्क किया जा सकता है